बुक्स स्टोर कैसे शुरू करे। How to start books business online/offline.

 

दोस्तो आज हम ऐसे बिज़नेस की बात कर रहे है जो आपको हर समय मुनाफा देगा। बुक्स का बिज़नेस। बुक्स स्टोर खोलना बहुत ही आसान है। बुक्स स्टोर बहुत ही कम लागत से स्टार्ट कर सकते है। और आप इससे अच्छा खासा मुनाफा भी कमा सकते है। मार्जिन भी अच्छा होता है। हा अगर आपको पढ़ने और किताबो से लगाव है तो ये सोने पर सुहागा वाली बात है। अगर नही है तो भी लगाव बढ़ा लीजिए आपके व्यापार के लिए अच्छा रहेगा।

 

प्रोडक्ट तो आपका बुक्स ही रहेगा पर इसमे भी आप दो तरह से बिज़नेस कर सकते है।
1. New Books,
2. Used Books.

या फिर दोनों तरह की बुक्स रख कर भी आप सभी प्रकार के ग्राहक की डिमांड पूरी कर सकते है। आज कल used books से भी अच्छा खासा बिज़नेस करते है।

सिलेक्ट करते समय बुक्स स्टोर खोलने के बाद आप बुक्स की दो तरह से sell कर सकते है ऑनलाइन या ऑफलाइन या फिर दोनों तरह से।

दोस्तो बुक्स का बिज़नेस कैसे सुरु करना है और किन किन बातों का ध्यान रखना होता है। आइये इसको detail में समझते है।

 

1) बाजार का विश्लेषण /who is your target market.

आपको सबसे पहले ये सोचना होगा कि आप बिज़नेस कहा करेंगे। आपके आप-पास कही सिटी प्लेस में या मार्किट प्लेस में । आपको बाजार का विश्लेषण करना होगा। की आपके ग्राहक आपको कहा ज्यादा मिल सकते है।

आपको पता करना होगा कही मार्किट प्लेस में दुकान खोल सकते है। या फिर कही स्कूल कॉलेज के पास में। या कोई कॉर्पोरेट आफिस के पास में। आपको पहले ही ये अनुमान लगाना होगा कि आपको किस किस फील्ड के लोग कहा कहा मिलेंगे, और आपको किस टाइप की बुक्स बेचनी है।

 

2) पूरा स्टॉक रखे। buying stock.

 

आप जब नए है इस फील्ड में तो बेसक स्टॉक ज्यादा रखे और जो आप बुक्स बेचना चाहते है उसकी फुल ऑफ रेंज रखे। मान लो आप अगर महान लोगो की जीवनी या आत्मकथा रखना चाहते है तो सारे राइटर्स की सारी किताबें रखे। इससे बिज़नेस में आपको फायदा होगा। और आपके ग्राहक को भरोसा होगा कि आपके यहा इस महान इंसान की बॉयोग्राफी मिलेगी ही।

आप स्टार्टिंग में एक दो प्रकार की पर ज्यादा रेंज में बुक्स रखे। जैसे टेक्नोलॉजी, गेम्स, कंप्यूटर, मोटिवेशनल, स्कूल कॉलेज सिलेबस बुक्स, जीवनी, नोवेल्स, etc. इनमे से आप एक दो पर हर राइटर्स, पब्लिसर्स की बुक्स रखे।

 

3) शुरुआती पूंजी । start-up costs.

आप पहले से अनुमान लगा ले कि आपको कितनी पूँजी लगानी है अपने इस बिज़नेस में। आप इसे कम से कम और ज्यादा से ज्यादा पूंजी लगा कर भी कर सकते है। आपके पास अभी बजट नही है तो आप कम से ही स्टार्ट कर सकते है।
मेरा एक दोस्त बृजेश है जिन्होंने मात्र 10हज़ार से बुक स्टाल खोल लिया, हा साथ मे स्टेशनरी की सारी चीज़ें रखता है। अच्छी खासी आमदनी होती है।

इसके लिए आप अपनी आमदनी सुरु से ही बनाये रखना चाहते है तो स्टेशनरी को अपनी शॉप में रख सकते है।

 

4) प्रशिक्षण और विकास। training and devlopment.

बिज़नेस शुरू करने से पहले हो सके तो ट्रेनिंग ले ले। इसके लिए आप किसी बड़ी बुक्स शॉप में सीखने के लिए काम कर सकते है। या फिर कही से इसके बारे में पढ़ सकते है, जैसे: गूगल से , यूट्यूब से या किसी और मध्यम से। या किसी एक्सपर्ट से सलाह ले सकते है।

हमेशा सीखते रहे और अपना विकास करे। हा एक बात, शॉप ओपन करने के बाद आपका ग्राहक भी बहुत कुछ आपको सिखाता है। एक नोट बुक बना ले और उसे काउंटर पर रखे। इससे होगा ये की अगर आपका कोई भी कस्टमर कोई बुक मांगता है और उस वक्त आपके पास मौजूद ना हो तो उसी वक्त उस नोट बुक में लिख ले।

और आपकी शॉप के पास में कोई बड़ी शॉप है तो वहां से मंगा कर ग्राहक को दे। या अगर नही मिली तो ग्राहक से बड़ी ही विनम्रता से बोले कि आप जब अगली बार आएंगे तो आपको ये बुक मिल जाएगी। अगर कोई सुजाव या कंप्लेन हो तो भी आदर पूवक उसे लिखे और समझे।

aloxpower-books store
aloxpower.com

5) कीमत कैसे तय करे। pricing.

आप जब होलसेल कीमत में बड़ी संख्या में बुक्स खरीद के ले आने के बाद उसकी pricing सेट करनी होती है। कि आप उसे कितनी मार्जिन जोड़ कर बाजार में बेचेंगे। आप थोड़ी सी दिमागी कसरत कर सकते है जैसे आपको ट्रांसपोर्ट का खर्चा कितना आया। उस पर GST या अन्य कोई टैक्स तो नही लगा है। लगा है तो कितना लगा है।

इस प्रकार टोटल खर्चे से एक प्रोडक्ट पर लगने वाला ख़र्च निकाल सकते हो। अब जब एक प्रोडक्ट पर लगने वाला खर्च निकल गया तो उसमें वो कीमत जोड़ दे जिस कीमत पर आपने उसे खरीदा है। साथ मे अपना प्रॉफिट जोड़ कर फाइनल कीमत तय करे। आप सीधा सीधा 30% से 50% तक लगा कर प्राइसिंग कर सकते है।

दोस्तो इस बिज़नेस में मार्जिन अच्छा है पर प्रतिस्पर्धा बहुत है। तो थोड़ा संभल कर। और प्रतिद्वंद्वी कोंन है ये है ऑनलाइन वाले जैसे amazon,flipcart और snapdeal.

Best article: 6 miracle morning habits for successful people  

6) ग्राहक को लुभाना होगा। Diversifying revenue streams.WiFi.

ये सच है आपने पॉपुलर टाइटल की बुक्स रखी है। और अच्छे राइटर्स की बुक्स भी रखी है । तो भी आपको अपनी बुक्स की सेल को बढ़ाने और बनाये रखने के लिए बहुत ही जरूरी होता है कि आप अपने बिज़नेस की मार्केटिंग करे। ग्राहक इससे आकर्षित होंगे और जुड़े रहेंगे।

आप अच्छी बुक्स के अलावा अच्छा माहौल भी दे सकते है। जैसे अच्छी लाइट्स , साफ दीवारे और जगह जगह फूलो के गमले रख कर। बैठने के लिए अच्छी व्यवस्था हो जहा बैठ कर ग्राहक किताब पढ़ सके। इससे आपकी सेल बढ़ सकती है।
इसके अलावा भी बहुत सारी बातें है जो आप अपने बिज़नेस में लागू करके आय में वृद्धि ला सकते है।

 

* ऑफर्स दे कर।
* सेमिनार या छोटे इवेंट्स करके।
* लकी ड्रा कांटेस्ट से।
* किताबे किराये पर दे कर।
* बैठने की अच्छी सुविधा दे कर।
* कंप्यूटर और नेट कैफ़े की सुविधा से।
* WiFi सुविधा दे कर।
* LAN गेमिंग सुविधा से।
* न्यूज़ पेपर और पत्रिकाएं रख कर।

दोस्तो सारी सुविधा देना तो मुश्किल है पर दो तीन सुविधा भी ग्राहक को दे दे तो बेसक आपकी सेल में वृद्धि होगी। और ग्राहक के साथ आपकी दोस्ती होगी।

 

7) अपने बिज़नेस की मार्केटिंग करे।marketing your book shop.

माना आपकी शॉप अच्छे मार्केट में क्यो न हो। अच्छी इनकम क्यो न हो रही हो। तब भी आपको मार्केट में बने रहने और अपने बिज़नेस को आगे बढ़ाने के लिए मार्केटिंग का सहारा लेना बहुत ही जरूरी होता है। आज के इस जमाने मे आपका प्रोडक्ट कितना भी अच्छा क्यो न हो अगर आप उसे लोगो को बताएंगे नही दिखाएंगे नही मार्केटिंग नही करेंगे तो वो ज्यादा दिन नही चलेगा।

अब आता है मार्केटिंग कैसे करे , मार्केटिंग आप अपने स्तर पर कर सकते है। जैसे आपकी शॉप छोटी है तो अपने लोकल एरिया में न्यूज़ पेपर से, पत्रिका से, स्कूल-कॉलेज के पास स्टाल लगा कर, बेनर लगा कर और इंटरनेट का भी सहारा ले सकते है।

अगर आपका बिज़नेस बडा है तो आपको बड़े स्तर पर मार्केटिंग करनी चाहिए। बड़े बुक्स मेले , बड़े बेनर, ऑनलाइन प्रमोशन, tv पर eds दे कर, वेबसाइट पर आफर, ऑनलाइन सैलिंग वेबसाइट पर सेल आदि करके भी मार्केटिंग कर सकते है और अपनी सेल बड़ा सकते है।

 

8) बीमा और अनुपालन। insurance and compliance.

आप को ये जान लेना बहुत जरूरी है कि आपका व्यापार एक ऐसा व्यापार है जिसमे स्टॉक रखना जरूरी होता है। स्टॉक रखने से आपको मुनाफा ज्यादा होता है। पर आपका प्रोडक्ट कागज का है और वो आग व पानी से बहुत ही जल्दी नष्ट हो सकता है। ऐसे में आपको इतनी भरपाई करना मुश्किल हो जाएगा।

ऐसा भी नही है कि बीमा अनिवार्य है या वो आपकी पूरी दिवालियापन दूर कर देंगा। हा इससे आपको काफी हद तक हेल्प हो जाएगी।

व्यापार बड़ा होने और कर्मचारी रहने पर आपको उनका बीमा भी कराना होता है।
आपको अपने व्यापार का बीमा कराना चाहिए।

यहा तक तो समझ गए होंगे कि बुक्स शॉप ओपन करने के लिए किन किन बातो का ध्यान रखना होता है।

 

ऑनलाइन एंड ऑफलाइन

आइये एक बार और नज़र डालते है कि ऑनलाइन और ऑफलाइन में किन महत्वपूर्ण बातों का ध्यान में रखना चाहिए।

यहा ऑनलाइन का मतलब है आपके पास कोई फिजिकल शॉप नही है,एक गोडाउन या स्टॉक हो सकता है और प्रोडक्ट को आप इंटरनेट के माध्यम से सेल करते हो।

ऑफलाइन का मतलब है कि आपके पास एक शॉप है और वही से सेल करते हो।

aloxpower-books store
www.aloxpower.com

 

* नई या यूज़ बुक्स शॉप कैसे ओपन करते है ऑफलाइन। How to Start a New/Used Book Store Offline.

a) सही जगह होनी चाहिए।

b) आवश्यक सर्टिफ़िकेट लेना।

c) मार्केट का विश्लेषन करना।

d) प्रोडक्ट की पूरी लिस्ट बना ले।

e) अपनीं लिस्ट को सुनोजित करे।

f) अच्छा फर्नीचर होना चाहिए।

g) प्रोडक्ट कैसे बेचना है क्या पालिसी होनी चाहिए बना ले।

h) बुक्स के अलावा स्टेशनरी और सीजन की वस्तुएं भी रख सकते हो।

i) आपके लोकल मार्केट में शॉप होनी चाहिए।

j) ऑनलाइन भी बिज़नेस की सुरूवात करे।

* नई या यूज़ बुक्स ऑनलाइन शॉप कैसे ओपन करते है। How to Start a New/Used Book Store Online.

a) प्रोडक्ट की लिस्ट बना ले।

b) क्या आप जानते है आपके टार्गेट ऑडियंस कौन है। मतलब आपके पक्के ग्राहक कोंन है, जान ले।

c) अपने बिज़नेस के नाम का डोमेन नेम और होस्टटिंग भी खरीद ले और वेबसाइट बना ले।

d) अपने बिज़नेस का रजिस्ट्रेशन करा लें।

e) अन्य ऑनलाइन शॉपिंग साइट पर भी काम करे।

f) अपने प्रोडक्ट की ज्यादा से ज्यादा फ़ोटो रखे।

g) अपने प्रोडक्ट के बारे में ज्यादा से ज्यादा बताये। हर जगह बताइये। प्रचार प्रसार करे।

h) ऑनलाइन सेल् पालिसी बना ले।

i) सोशल मीडिया में हर समय एक्टिव रहे।

j) नई और लेटेस्ट पुस्तको का चयन ज्यादा करे। उनका प्रमोशन करे।

 

सारांश:

बहुत से लोगो को लगता है कि बुक शॉप एक मरा हुआ और नीरस बिज़नेस है। कुछ को लगता है कि पुस्तक पढ़ने वाले 100 में 1 होते है।

दोस्तो ये सच है कि पुस्तक कम लोग पढ़ने और पसंद करते है। इस टेक्नोलॉजी के युग मे एक दिन ऐसा आएगा जब लोग इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों से तंग आकर फिर से पुस्तकों की तरफ आएंगे।

और उस दौर में बुक्स शॉप बिज़नेस बहुत की सफल बिज़नेस होगा। मोबाइल से निकलने वाली तरंगें पूरे मानव जाति और जीव जंतुओं के लिए भी हानिकारक है। हाल ही में एक मूवी जो सुपरस्टार रजनीकांत/अक्षयकुमार की है, उसमे मोबाइल रखने के नुकसान के बारे में बताया गया है। आप सबने देखी ही होगी।

दोस्तो आप सब को मेरी सुभकामना है कि आप सीखते रहे और सफल बने।
चैम्पियन बने।
(ये बिज़नेस आईडिया कैसा लगा ? कुछ सुजाव देना चाहे तो स्वागत है ! ये आर्टिकल कैसा लगा जरूर बताएं! )

BEST ARTICLES :

  1. Reading benefit 
  2. How to reading faster
  3. What is a ebook
  4. miracle morning habits
  5. Why writers write a book